छात्र-विर्य, ब्रह्मतेज, मूर्तिमान स्वामी विवेकानन्द आये हैं आज...
Please visit Swami Vivekananda's sayings in English

Wednesday, June 28, 2006

स्वामी विवेकानन्द जी का अनुभव

वर्तमान अवस्था में काम, अर्थ और यश -- ये तीन बन्धन मानो मुझसे दूर हो गये हैं और पुनः यहाँ भी मैं वैसा ही अनुभव कर रहा हूँ, जैसा कभी भारतवर्ष में मैंने किया था। मुझसे सभी भेद - भाव दूर हो गये हैं। अच्छा और बुरा, भ्रम और अज्ञानता सब विलीन हो गये हैं। मैं गुणातीत मार्ग पर चल रहा हूँ। किस नियम का पालन करूँ और किसकी अवज्ञा? उस ऊचाँई से विश्व मुझे मिट्टी का लोंदा लगता है हरि ॐ तत् सत्। इश्वर का अस्तित्व है; दूसरे का नहीं। मैं तुझमें और तू मुझमें। प्रभु, तू ही मेरे चिर शरण हो शांति, शांति, शांति! (वि.स.४/३४)

अरे पागल, परी जैसी औरतें, लाखों रुपये, ये सब मेरे लिए तुच्छ हो रहे हैं, यह क्या मेरे बल पर? -- या वे रक्षा कर रहे हैं, इसलिए! (४/३५४)

Labels: , ,

2 Comments:

Anonymous Anonymous said...

Hmm I love the idea behind this website, very unique.
»

2:26 PM  
Anonymous Anonymous said...

I like it! Keep up the good work. Thanks for sharing this wonderful site with us.
»

1:27 AM  

Post a Comment

<< Home